Image not Found
दाल आयात किसानों के लिए घातक
10 मई 2017

एक तरफ तो सरकार किसानों को ज्यादा से ज्यादा दलहन उत्पाद करने के लिए कहती है और दूसरी तरफ दाल के आयात की छूट दे देती है । इस चक्रव्यूह में किसान मारा जाता है ।
तुवर की इस साल (2016-17 में 224 लाख टन ) रिकॉर्ड पैदावार हुई । जोकि 2015-16 की पैदावार (163 लाख टन) के ऊपर करीब 37% की वृद्धि हुई । फलस्वरूप जो तुवर 100 रुपये/किलोग्राम से ज्यादा दाम में पिछले साल बिकी थी उसकी कीमतें 43/44 रुपये/किलोग्राम आ गयीं ।

कनाडा की पीली मटर जिसको तुवर दाल में मिलाया जाता है उसका आयात भी जोरों पर है । एक लाख टन मुंबई पहुँच चुकी है और करीब 20,000 टन पहुँचने वाला है । इसका सीधा असर तुवर पर पड़ेगा और तुवर की कीमतें वहीं रुकी रहेंगी ।

किसान कब तक रोक पायेंगें अपने उत्पाद को ?

"मौसम का फसल पर असर"
मौसम और फसलों की ज्यादा जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर जाएं
"फसल सलाह" एप प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिये: "फसल सलाह एप"
"फसल सलाह वेबसाइट पर जाने के लिए : "फसल सलाह"
अधिक खबर पढ़ने के लिए जाएं:Temperature forecast for next 15 days